सरकारी दवाओं को तीन साल से मेडिकल स्टोर में बेचने वाले को एसटीएफ ने पकड़ा; तीन गिरफ्तार, दवाएं बरामद | in Lucknow Medical supply racket from KGMU Gang selling government medicines in medical stores exposed; STF arrested three


लखनऊएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (केजीएमयू) में जहां मरीज और उनके तीमरदार एक-एक दवाओं के लिए अस्पताल में संघर्ष करते हैं। वहीं, वहां की सरकारी दवाईयों पर केजीएमयू कर्मी की मिलीभगत से तीन वर्षों से शहर के निजी मेडिकल स्टोरों पर खुलेआम बेंची जा रही है।

स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की टीम ने गुरुवार को तीन आरोपियों को नियाज फ्लावर मर्चेन्ट स्थित चौक ओवर ब्रिज के पास से गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपियों की पहचान सीतापुर निवासी रजनीश कुमार, नितिन बाजपेयी और प्रियांशू मिश्रा के रूप में हुई है। गिरफ्तार आरोपियों के कब्जे से लाखों रुपयों की दवाईयां बरामद हुई है। इस पूरे खेल को रजनीश चला रहा था। हालाकि एसटीएफ की आगे जांच में कई अधिकारियों के भी गिरफ्तारी हो सकती है।

प्रभारी एसएसपी एसटीएफ विशाल विक्रम सिंह ने बताया कि प्रदेश में सरकारी अस्पतालों की दवाईयों को खुले बाजार में बेचने की सूचना लगातार मिल रही थी। जिस पर एसटीएफ की एक टीम गठित की गई। इसी बीच टीम को सूचना मिली कि केजीएमयू की सरकारी दवाईयां बाहर बाजारों में बेंचने वाले आरोपी लखनऊ में घूम रहे हैं।

सूचना के आधार पर टीम ने मौके पर पहुंच कर तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार आरोपी रजनीश कुमार ने पूछताछ में बताया कि वह केजीएमयू में रिवाल्विंग फंड (एचआरएफ) की फार्मेसी दवा की दुकान में संविदा पर फार्मेसिस्ट सेल्समैन का काम तीन वर्षों से कर रहा है। जो केजीएमयू की दवाईयों को लेकर दवाइयों पर लिखे फॉर केजीएमयू एचआरएफ वनली लिखे शब्द को मिटा कर साथी नितिन और प्रियांशु मदद से बाजारों के मेडिकल स्टोरों पर 30 प्रतिशत कमीशन लेकर बेंच देते हैं।

पैसों की होती थी बंदर बांट

पूछताछ में आरोपी ने बताया कि केजीएमयू के ट्रामा सेंटर स्थित एचआरएफ की दवा दुकान पर तैनात महेश प्रताप सिंह और अनूप मिश्रा, देवेश मिश्रा भी इस खेल में अपना अहम भूमिका निभा रहे थए। प्रियांशु मिश्रा का बड़ा भाई सूरज मिश्रा भी इस खेल में शामिल था। जो इस खेल में आए पूरे पैसों में हो रही बंदरबांट में शामिल था। सभी आरोपियों के खिलाफ चौक कोतवाली में मुकदमा दर्ज कर मामले की छानबीन की जा रही है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Comment